Advantages of Learning Karate | जानिए कराटे सिखने के फायदे।

हेलो साथियो आज के इस पोस्ट Advantages of Learning Karate में हम आपको कराटे सिखने से होने वाले फायदे के बारे में बताने वाले हैं। यह लेख आपके लिए काफी हैल्पफुल साबित होगा। इसलिए इस पोस्ट को अंत तक पूरा पड़ें, जिससे कि आप अच्छे से समझ पाएं, कि कराटे सिखने के क्या-क्या फायदे होते हैं।

हम सभी अपने बच्चों की अच्छी परवरिश के लिये क्या-क्या नहीं करते, यहाँ तक की हम अपने बच्चों के बेहतर भविष्य और उत्तम शिक्षा के लिए उनका एड्मिशन बड़े से बड़े स्कूल में कराते हैं। इसके आलावा उनकी मेहगी से मेहगी टूशन का इंतजाम भी अलग से कराते हैं। जिससे कि हमारा बच्चा अव्वल दर्जे की शिक्षा प्राप्त कर अपने उज्जवल भविष्य का निर्माण कर सके।

साथियो लेकिन यहाँ ध्यान देने वाली बात यह है, की क्या केवल अच्छी शिक्षा ही हमारे बच्चों के अच्छे भविष्य के लिए काफी है? क्या शिक्षा के अलावा हमारे बच्चों को वास्तव में किसी और चीज की आवश्यकता नहीं है? आप सभी को एक बार नहीं कई बार इस बात पर विचार करना होगा। क्यों कि आज के समय में केवल अच्छी शिक्षा से काम नहीं चलेगा।

हमें अपने बच्चों की शिक्षा के साथ-साथ उनकी सुरक्षा के भी पुख्ता इंतजाम करने होंगे, जिससे की हम अपने बच्चों की तरफ से निश्चिंत हो सकें। आज परिस्थितियाँ बदल चुकी हैं। चारों तरफ प्रतिस्पर्धा का माहौल है। एक से बढ़कर एक प्रतिभा हमारे बीच मौजूद है। ऐसे माहौल में हर व्यक्ति दूसरे व्यक्ति से आगे निकलने की होड़ में लगा है।

मसलन लोगों की सहनशक्ति में कमी आना, चिड़चिड़ापन बढ़ना और छोटी-छोटी बातों पर एक दूसरे से लड़ना एक आम बात हो गयी है। इसलिए आज के समय में केवल अच्छी शिक्षा से उज्जवल भविष्य का निर्माण करना नामुमकिन है। आज सभी अभिभावकों को मार्शल आर्ट के प्रति जागरूक होने की आवश्यकता है।

आज हमें अपने बच्चों के लिए केवल तेज दिमाग की ही नहीं बल्कि मजबूत तन की भी जरूरत है। और यह बात आप सभी को माननी होगी। अगर मौजूदा दौर की बात करें तो लगभग सभी शिक्षित परिवारों में एक या दो बच्चे ही होते हैं, जिनकी परवरिश और शिक्षा के लिए अभिभावक अपनी पूरी कमाई लगा देते हैं।

लेकिन क्या कभी अभिभावकों ने यह जानने की कोशिश की, कि हमारा बच्चा दुनियाँ दारी के लिए कितना तैयार है। अगर आज से दो दशक पहले की बात करें, तो लगभग सभी बच्चे पढाई के बाद घर के बाहर गलियों में खेलते नजर आते थे। और उसका फायदा यह मिलता था, कि सभी बच्चे स्वस्थ और सक्रीय रहते थे। इसके अलावा बच्चे अच्छे बुरे की पहचान करना भी सीखते थे।

साथियो अगर आज की बात करें, तो अभी करोना काल (कोविड-19) चल रहा है। जिसमें हमारे बच्चे सिर्फ मोबाइल और लैपटॉप तक ही सिमित रह गए हैं। जिसका उनके शरीर और इन्द्रियों पर बहुत ही बुरा प्रभाव पड़ रहा है। अगर पढाई की बात करें, तो बच्चे सिर्फ औपचारिकता निभा रहे हैं। और अगर शारीरिक गतिविधी की बात करें, तो यह कहना गलत नहीं होगा कि बच्चे शारीरिक निष्क्रियता की और बढ़ रहे हैं।

रात को देर तक जागना, सुबह देर तक सोना, छोटे-छोटे काम के लिए अपने माता-पिता से कहना, कई बार कहने पर भी अपनी जगह से न हिलना आदि शारीरिक निष्क्रियता के मुख्य कारण हैं। साथियो इन सभी बातों को हम नजरअंदाज नहीं कर सकते, क्यों कि जब हमारे समाज का भविष्य ही निष्क्रियता की ओर बढ़ रहा है, तो आगे चलकर इनका क्या होगा भगवान ही जाने।

अगर आप उपरोक्त सभी बातों को अपने घर या आसपास में महसूस कर रहे हैं, तो इस लेख Advantages of Learning Karate को अंत तक जरूर पड़ें, जिससे कि आप इन सभी समस्याओं को आसानी से सॉल्व कर सकें। आम तौर पर देखा जाए तो आज सभी अभिभावकों को जरुरत है, कि वे अपने बच्चों को किसी भी खेल में शामिल जरूर कराएं। अब अगर खेल की बात करें, तो जनरली दो तरह के गेम्स होते हैं। 1- इंडोर गेम्स और 2- आउटडोर गेम्स।

अब बात करते हैं, कि इंडोर गेम्स और आउटडोर गेम्स में से बच्चों के लिए कौन सा गेम ज्यादा फायदेमंद होगा। तो यहाँ ध्यान देने वाली बात यह है, कि अगर हम इंडोर गेम्स चुनते हैं, तो इंडोर गेम्स में आपके बच्चों का मनोरंजन तो हो सकता है। लेकिन इसमें आपके बच्चों को फिजिकली कोई फायदा नहीं मिलने वाला है।

इसके अलावा अगर आउटडोर गेम्स की बात करें, तो इससे हमारे बच्चों को फिजिकली बैनिफिट तो मिलेगा, लेकिन जहाँ तक मेरा मानना है, कि कुछ ही घर ऐसे होंगे जिनमें किर्केट, फुटबॉल, रैकेट, बॉलीबॉल, कबड्डी जैसे गेम्स खेलने के लिए पर्याप्त जगह होगी। इसलिए आउटडोर गेम्स कराना भी इस समय हमारे बच्चों के लिए पॉसिबल नहीं है।

साथियो जैसा की आप लोगों को पता है, की यह लेख मार्शल आर्ट कराटे पर आधारित है। इसलिए आज के इस लेख Advantages of Learning Karate को अंत तक जरूर पड़ें, जिससे कि आप इन सभी समस्याओं को आसानी से सॉल्व कर सकें। आम तौर पर देखा जाए तो आज सभी अभिभावक कहीं ना कहीं उपरोक्त समस्याओं का सामना कर रहे हैं।

आज के इस लेख में हम उपरोक्त सभी बातों को ध्यान में रखते हुए कराटे सिखने से होने वाले फायदों के बारे में बतायेगे। अगर आप कराटे सिखने से होने वाले फायदों के बारे में जानना चाहते हैं, तो इस लेख को अंत तक पूरा पड़ें, जिससे की आप अच्छे से समझ पाएं, कि आखिर कराटे सिखने के क्या-क्या फायदे हैं।

Advantages of Learning Karate

साथियो सबसे पहले जान लेते हैं, की मार्शल आर्ट कराटे क्या है? मार्शल आर्ट यानि कि ‘युद्ध कला’, जो की प्राचीन काल से ही मानव जाति में अपनी और दूसरों की सुरक्षा करने का साधन रही है। कराटे, कुंग फु, बुशू , मोई थाई, आदि ये सभी मार्शल आर्ट का ही हिस्सा हैं। लेकिन आज के इस लेख Advantages of Learning Karate में हम सिर्फ कराटे सिखने से होने वाले फायदों के बारे में बात करने वाले हैं।

आप लोगों को यह जानकर आश्चर्य होगा की मार्शल आर्ट में कराटे एक ऐसी शैली है, जिसमें सभी मूव्स खाली हाथ ही होते हैं। लेकिन यहाँ समझने वाली बात यह है, कि यह सभी मूव्स बहुत ही तेज और खतरनाक होते हैं। ज्ञात हो कि कराटे का अर्थ इंग्लिश में एम्प्टी हैंड होता है, मतलब ‘खाली हाथ’ इसलिए कराटे में सभी मूव्स खाली हाथ ही किये जाते हैं। कराटे में आपके हाथ पैर ही आपके हथियार होते हैं।

साथियो आज का यह लेख Advantages of Learning Karate आप के लिए बहुत ही सहायक होने वाला है, क्यों की आज के इस लेख में हम कराटे सिखने से होने वाले बहुत सारे फायदे बताने जा रहे हैं। सबसे पहले आप यह समझ लें की जब आप कराटे में शामिल होते हैं, तब आपको गौरवांतित महसूस करना चाहिए क्यों की आप दुनियां की सबसे प्राचीन कलाओं में शामिल ‘मार्शल आर्ट’ को अपना रहे होते हैं।

साथियों कराटे सीखने के वैसे तो कई फायदे होते हैं, लेकिन इस लेख में हम आपको कराटे सीखने से होने वाले कुछ मुख्य फायदों के बारे में बताएँगे जो की आपके लिए काफी हेल्पफुल होने वाले हैं। सबसे पहले तो आप ये बात समझ लें, की कराटे सिखने के लिए कोई ऐज लिमिट नहीं होती आप किसी भी उम्र में कराटे ज्वाइन कर सकते हैं, और इसके फायदे जानने के लिए इस लेख को अंत तक पूरा पड़ें।

कराटे सिखने से आपका शरीर सक्रिय रहता है।

साथियो कराटे की शुरुआत एक आसान व्यायाम से होती है, जिसके कारण आपका शरीर लचीला और फुर्तीला बनता है, और आपके शरीर का आलस आपसे कोसों दूर चला जाता है, जिससे आपका शरीर दिनभर सक्रिय रहता है। यह मार्शल आर्ट की खासियत है, कि जो लोग मार्शल आर्ट में शामिल होते हैं, वह मार्शल आर्ट ना सिखने वालों के मुकाबले कहीं ज्यादा एक्टिव रहते हैं।

कराटे सिखने से आपका शरीर स्वस्थ रहता है।

कराटे में फ्लैक्सिबिलिटी बढ़ाने के लिए रेगुलर फुल बॉडी एक्सरसाइज की जाती है, जिसके कारण शरीर स्वस्थ तो रहता ही है, साथ ही आप के शरीर के सभी अंग प्रॉपर काम भी करते हैं, यह मार्शल आर्ट सिखने का एक बड़ा एडवांटेज है। कि जब आप मार्शल आर्ट में शामिल होते हैं, तो उसके तीन महीने बाद ही आपके अंदर काफी सुधार देखने को मिलता है।

साथियो अगर आप मार्शल आर्ट सिखने का मन बना रहे हैं, तो आपको यह जानकर ख़ुशी होगी कि यह आपकी जिंदगी का सबसे अच्छा फैसला है। क्यों की मार्शल आर्ट दुनियाँ की सबसे प्राचीन कलाओं में से एक है। यह जीवन की एक राह है। यह हमारे जीवन की एक सुरक्षा प्रणाली है। और यह कहना गलत नहीं होगा, की मार्शल आर्ट सीखना आज के समय में हमारे लिए जरुरी ही नहीं बेहद जरुरी है।

कराटे सीखने से आत्मविश्वास का निर्माण होता है।

जब आप कराटे में शामिल होते हैं, तो आपको सभी छात्रों के साथ मिलकर नियमित रूप से कई तरह के मूव्स करने होते हैं, और लगभग 4 से 5 माह बाद ही आप मार्शल आर्ट के सभी मूव्स समझने लगते हैं, जिससे आपका कॉन्फिडेंस लेवल भी बढ़ता है। और जिस व्यक्ति का कॉन्फिडेंस लेवल हाई होता है, वह व्यक्ति जीवन में कभी खुद को असहाय महसूस नहीं करता।

कराटे सीखने से बढ़ती है शारीरिक शक्ति।

जब हम रेगुलर कराटे के मूव्स करते हैं, तो हमारे शरीर की शक्ति में भी बृद्धि होती है। ऐसा कहना गलत होगा की मार्शल आर्ट में केवल टेक्निक का ही प्रयोग किया जाता है। आपने ज्यादातर लोगों से सुना होगा, कि मार्शल आर्ट सीखने से केवल तकनीकी ज्ञान प्राप्त होता है, अगर शारीरिक शक्ति चाहिए तो जिम जाना चाहिए।

लेकिन आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि मार्शल आर्ट की नियमित प्रैक्टिस के दौरान होने वाले खतरनाक मूव्स, पुशअप्स, जम्प्स, और सिटअप्स करने से भी आपकी शारीरिक शक्ति में कई गुना इजाफा होता है। और रेगुलर मार्शल आर्ट की प्रैक्टिस के चलते आपके मसल्स और भी ज्यादा शक्तिशाली और मजबूत हो जाते हैं।

कराटे सीखने से शरीर के साथ-साथ मानसिक विकास भी होता है और सबसे बड़ी बात तो यह है कि हम आत्मरक्षा के लिए पूरी तरह से प्रशिक्षित हो जाते हैं। इसके अलावा हमारा आत्मविश्वास भी बढ़ जाता है जिससे कि हम कठिन परिस्थितियों में भी आसानी से अपनी रक्षा स्वयं कर सकें जो बच्चे कराटे सीखते हैं वह औरों के मुकाबले कुछ अलग ही दिखते हैं क्योंकि उनके अंदर बहुत कुछ ऐसा होता है जो उन्हें औरों से अलग बनाता है।

कराटे सीखने के लिए जरूरी है धैर्य।

कराटे सीखने के लिए सबसे जरूरी है धैर्य क्योंकि जब भी आप मार्शल आर्ट कराटे सीखते हैं। तो उसमें हमारे प्रशिछक हमें एक दाव का बार-बार अभ्यास कराते हैं कभी भी यह नहीं सोचना चाहिए कि हम इसको जल्द से जल्द सीख जाएं क्योंकि ऐसा कभी नहीं होता कि आप किसी भी दाव को एक बार करके सीख जाएं इसलिए कराटे में धैर्य रखना बेहद जरूरी है। निरंतर अभ्यास करें तभी आप सफल हो पाएंगे।

ध्यान मन को बनाता है शांत एवं सक्रिय।

मार्शल आर्ट कराटे में सभी बच्चों को मेडिटेशन “ध्यान” कराया जाता है जिससे बच्चे शांत एवं सक्रिय रहते हैं तथा सामाजिक और असामाजिक लोगों को अच्छे से समझ लेते हैं। ध्यान से इनके अंदर और भी कई बदलाब होते हैं। जैसे की पढ़ाई मैं अच्छे अंक लाना, तुरंत निर्णय लेना,फालतू की जिद ना करना,अपने अभिभावको की  बात को समझना आदि।

अगर आपको यह पोस्ट Advantages of Learning Karate की जानकारी अच्छी लगे तो इस पोस्ट को शेयर अवश्य करें और अगर आपके पास कोई सुझाव हो तो निचे कमेंट करके जरूर बतायें और इस तरह की रोचक जानकारी हिंदी में प्राप्त करने के लीये हमारी हिंदी साइट कराटे सीखो .कॉम  का अनुसरण करें धन्यबाद।

1 thought on “Advantages of Learning Karate | जानिए कराटे सिखने के फायदे।”

Leave a Comment

Translate »
%d bloggers like this: