Self Defence For Girls | लड़कियों के लिए आत्मरक्षा अभियान

3
1036
Self Defence For Girls | लड़कियों के लिए आत्मरक्षा अभियान

नमस्कार साथियो, आज के इस पोस्ट में, हम आपको बतायेगें की Self Defence For Girls क्यों जरुरी है। और लड़कियों को सेल्फ डिफेन्स सीखना चाहिए या नहीं। अगर आप लोग जानना चाहते हैं, तो हमारे साथ बने रहे या इस आर्टिकल को शुरू से लेकर आखिरी तक पढ़ें, ताकि आप बेहतर तरीके से समझ पाए कि, सेल्फ डिफेन्स फॉर गर्ल्स आज के समय के लिए कितना आवश्यक है।

जैसा कि आप सभी लोग जानते हैं, कि हैदराबाद मैं डॉक्टर प्रियंका रेड्डी के साथ जो घटना हुई है, वह काफी शर्मनाक है, हमें ऐसी घटनाओं से सबक लेना चाहिए। आज हम सभी को यह मानना पड़ेगा, कि हम अपनी बेटियों की परवरिश और उनकी सुरक्षा सही ढंग से नहीं कर पा रहे हैं, क्योंकि हम उन्हें अच्छी शिक्षा, अच्छा खानपान, अच्छा रहन सहन और अच्छा व्यवहार तो सिखा रहे हैं, लेकिन उनकी सुरक्षा के लिए क्या कर रहे हैं? इसके लिए हम सभी को अपनी बहन बेटियों को सुरक्षा के लिए जागरूक करना पड़ेगा, आइए जानते हैं…

कैसे। ↦ 

यह बात तो आप सभी लोग जानते हैं, कि परिवार की जरूरतों को पूरा करने के लिए, हम सुबह से शाम तक व्यस्त रहते हैं, और अपने बच्चों के साथ हर जगह नहीं जा सकते, इसलिए हम सभी को आज मानना पड़ेगा, कि यही एक ऐसा कारण है, जिसकी वजह से कुछ अराजक लोग, कई बड़ी शर्मनाक घटनाओं को अंजाम देने में सफल हो जाते हैं, जिसकी भरपाई हम जीवन भर नहीं कर सकते।

Self Defence For Girls | लड़कियों के लिए आत्मरक्षा अभियान
self defence for girls

 

सक्रिय रहें।

आज के इस व्यस्त समाज को जरूरत है, की अपनी बेटियों को कुछ जरूरी निर्देश दें, जैसे कि, अगर आप स्कूल, कॉलेज, ट्यूशन कहीं भी जाती हैं, तो पूरी तरह से सक्रिय रहें, एवं सुनसान रास्ता भले ही छोटा हो, उस रास्ते से ना जाए, भीड़भाड़ वाले रास्ते से ही जाए, अगर वहां भी कोई घटना हो, तो सबसे पहले इतना ध्यान रखें, की घबराएं नहीं, और उसका जी तोड़ सामना करें, और तेज आवाज में “हेल्प मी” चिल्लाए, और ऐसा जब तक करें, जब तक कि आप पूरी तरह से सेफ महसूस ना करें, और फिर इस घटना का जिक्र अपने घर पर जरूर करें, और हो सके तो दो-तीन दिन स्कूल ना जाए, तो भी कोई बात नहीं है, याद रहे, आपके लिए आपके जीवन से ज्यादा महत्वपूर्ण कुछ भी नहीं है।

मैं भारत देश में रहने वाले सभी अभिभावकों, भाई, बहन, बेटियों, और रिश्तेदारों से कहना चाहता हूं, कि अपराधी हम सबकी चुप्पी और मजबूरी का फायदा उठाते हैं, और अश्लीलता, छेड़छाड़ व बलात्कार जैसी घिनौनी हरकत करते हैं। इसके अलावा हम सब, अपने बच्चों को बैड टच के प्रति जागरूक नहीं करते, और ना हीं सेक्स की सकारात्मक शिक्षा देते हैं, कारण- शर्म, संकोच, लिहाज, पुरानी परंपरा, जिसका भरपूर फायदा उठाते हैं अपराधी, क्योंकि आपके आस पड़ोस में, जब कोई अप्रिय घटना हो जाती है, तो आप शर्म के मारे किसी को कुछ नहीं बताते, और बदनामी के डर से पुलिस की मदद भी नहीं लेते, मेरा ऐसा मानना है कि ऐसे लोगों का हम मुंह तोड़ जवाब देना पड़ेगा। शर्म और संकोच का भी त्याग करना पड़ेगा।

Self Defence For Girls | लड़कियों के लिए आत्मरक्षा अभियान

इसके अलावा, अपने बच्चों को महारानी लक्ष्मीबाई जैसे महान ऐतिहासिक किरदार के बारे में बताएं, जिन्होंने अंग्रेजों की बड़ी फौज को भी, अपने सामने बौना साबित कर दिया, ऐसी ऐतिहासिक बातों से लड़कियों के अंदर आत्मविश्वास भी बढ़ेगा। इस पोस्ट Self Defence For Girls को पढ़कर इसे अपने फेसबुक अकॉउंट पर भी शेयर जिससे ज्यादा से ज्यादा लोग इसके बारे में जान सकें।

कराटे सिर्फ नाम ही काफी है 

अगर हो सके तो लड़कियों को मार्शल आर्ट कराटे की ट्रेनिंग भी दिलाएं, यह एक अच्छा निर्णय रहेगा, जो कि आपके बच्चों को आत्मविश्वास से परिपूर्ण कर देगा।

अगर यह पोस्ट अच्छा लगे तो कमेंट जरूर करें, और अपने लोगों को शेयर करें, इस तरह की पोस्ट पढ़ने के लिए इस साइट को सब्सक्राइब जरूर करें।  अगर आपके नगर में मार्शल आर्ट कराटे का प्रशिक्षण नहीं दिया जाता है, तो आप इस साइट पर बने रह कर भी मार्शल आर्ट सीख सकते हैं।

अगर आपको यह पोस्ट Self Defence For Girls की जानकारी अच्छी लगे, तो इस पोस्ट को शेयर अवश्य करें, और अगर आपके पास कोई सुझाव हो, तो निचे कमेंट करके जरूर बतायें, और इस तरह की रोचक जानकारी हिंदी में प्राप्त करने के लीये, हमारी हिंदी साइट कराटे सीखो .कॉम  का अनुसरण अवश्य करें, धन्यबाद।

3 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here